राष्ट्रिय

सब-लेफ्टिनेंट अनामिका पहली महिला हेलीकॉप्टर पायलट बनीं, ‘गोल्डन विंग्स’ का तमगा मिला

सब-लेफ्टिनेंट अनामिका बी राजीव तमिलनाडु के अराक्कोनम स्थित नौसैन्य हवाई स्टेशन में पासिंग आउट परेड में प्रतिष्ठित ‘गोल्डन विंग्स’ प्राप्त करने के बाद भारतीय नौसेना की पहली महिला हेलीकॉप्टर पायलट बन गई हैं. भारतीय नौसेना के अनुसार, एक अन्य उपलब्धि में लद्दाख से पहले कमीशन प्राप्त नौसेना अधिकारी लेफ्टिनेंट जामयांग त्सेवांग ने भी सफलतापूर्वक एक योग्य हेलीकॉप्टर पायलट के रूप में स्नातक की उपाधि प्राप्त की.

नौसेना की तरफ से जारी किए एक बयान में कहा गया कि सब-लेफ्टिनेंट राजीव और लेफ्टिनेंट सेवांग उन 21 अधिकारियों में शामिल हैं. जिन्हें पूर्वी नौसैन्य कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ वाइस एडमिरल राजेश पेंढारकर ने आईएनएस राजली में पासिंग-आउट परेड में ‘गोल्डन विंग्स’ से सम्मानित किया.

पहली महिला नौसेना हेलीकॉप्टर पायलट बनी

नौसेना ने आगे कहा, लैंगिक समावेशिता और महिलाओं के लिए करियर के अवसरों के विस्तार के प्रति भारतीय नौसेना की प्रतिबद्धता को दर्शाते हुए…सब-लेफ्टिनेंट अनामिका बी राजीव ने पहली महिला नौसेना हेलीकॉप्टर पायलट के रूप में स्नातक करके इतिहास रचा.

बयान में कहा गया कि केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख से पहले कमीशन प्राप्त नौसेना अधिकारी लेफ्टिनेंट जामयांग त्सेवांग ने भी सफलतापूर्वक एक योग्य हेलीकॉप्टर पायलट के रूप में स्नातक की उपाधि प्राप्त की.

पहली ही यात्रा में मिग-21 बाइसन उड़ाया था

नौसेना अपने डोर्नियर-228 समुद्री निगरानी विमान के लिए पहले ही महिला पायलटों को तैनात कर चुकी है. बता दें सब-लेफ्टिनेंट राजीव ऐसी पहली महिला पायलट बनी हैं, जिन्हें सी किंग्स, एएलएच ध्रुव, चेतक और एमएच-60आर सीहॉक्स जैसे हेलीकॉप्टर उड़ाने की अनुमति दी जाएगी. साल 2018 में भारतीय वायुसेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी ने अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला पायलट बनकर इतिहास रचा था. उन्होंने अपनी पहली एकल उड़ान में मिग-21 बाइसन उड़ाया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *