उत्तराखण्डराज्य

उत्तराखंड: टिहरी के सहस्त्रताल में लापता 22 ट्रैकर्स में 9 की मौत, 13 रेस्क्यू, मौसम खराब होने से फंसे थे लोग

उत्तरकाशी: उत्तराखंड के उत्तरकाशी में 4400 मीटर की ऊंचाई पर मौजूद सहस्त्रताल में अचानक मौसम खराब होने से वहां ट्रेकिंग पर गए 22 सदस्यों के दल में से 9 की मौत हो गई। कर्नाटक और महाराष्ट्र के पर्वतारोहियों का यह दल खराब मौसम में रास्ता भटक गया था। 2 जून को कोखली टॉप के बेस कैंप के पास घने कोहरे और बर्फबारी के बीच ट्रेकर्स को पूरी रात बितानी पड़ी थी।

दल के चार महिलाओं समेत पांच लोगों की ठंड में तबीयत बिगड़ने से मौत हुई। जानकारी मिलने पर प्रशासन ने जमीनी और हवाई बचाव अभियान शुरू किया। वायुसेना, SDRF और प्राइवेट हेलिकॉप्टरों की मदद से ट्रेकिंग दल के 11 लोगों को बचाया गया है।

SDRF कमांडेंट मणिकांत मिश्रा ने बताया, ‘अब भी 4 ट्रेकर्स लापता हैं। इन लापता ट्रेकर्स की तलाश चल रही है। मरने वाले पांचों बेंगलुरु के हैं। उनके शवों को निकाल लिया गया है। मृतकों के नाम आशा सुधाकर (71), सिंधु (45), सुजाता (51), चित्रा परिणीथ (48) और विनायक (54) हैं। दल में शामिल गाइड समेत अन्य चार की खोज और बचाव के लिए अभियान युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है।’ इससे पहले 4 अक्टूबर 2022 में द्रौपदी डांडा-2 में हिमस्खलन की चपेट में आने से 27 लोगों की मौत हो गई थी।

खराब मौसम की वजह से बचाव में दिक्कतें

मौसम खराब होने से रेस्क्यू के लिए भेजी गई एसडीआरएफ टीम को घटनास्थल पर पहुंचने में थोड़ी दिक्कत हो रही है। बुधवार दोपहर के बाद इस उच्च हिमालयी क्षेत्र में मौसम खराब होने के कारण हेलिकाप्टर रेस्क्यू अभियान में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा। लगभग 35 किलोमीटर इस दुरूह हिमालयी ट्रेक पर घटनास्थल तक पहुंचने में भी रेस्क्यू टीमों को कुछ समय लग रहा है। वायुसेना ने जो सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन बुधवार को शुरू किया, वह गुरुवार सुबह भी जारी रहेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *