उत्तराखण्डराज्य

उत्तराखंडः राजाजी पार्क में एक और बाघिन ने दिया शावक को जन्म

हरिद्वार। राजाजी टाइगर रिजर्व में जिस उद्देश्य को लेकर टाइगर ट्रांसलोकेसन का काम किया गया था, वह काफी हद तक सफल होता नजर आ रहा है। पिछले दिनों टाइगर रिजर्व में चार शावकों के जन्म के बाद अब एक बार फिर शावक के जन्म लेने का समाचार है।

टाइगर रिजर्व प्रशासन के अनुसार, पार्क के पश्चिमी छोर में एक बाघिन नन्हें शावक के साथ नजर आयी है।  कैमरा ट्रैप में नन्हे शावक के साथ दिखी यह बाघिन और शावक पूर्णतया स्वस्थ दिख रहे है। पार्क प्रशासन उन पर नजर बनाए हुए है। कुछ दिनों पूर्व पार्क के इसी इलाके में  जिम कॉर्बेट कॉर्बेट से ट्रांसलोकेट की गई एक बाघिन ने चार शावकों को जन्म दिया था।

राजाजी प्रशासन व वन विभाग उत्साहित

राजाजी प्रसाशन व वन विभाग इसे लेकर बेहद उत्साहित है। इसके बाद पार्क प्रशासन पांचवें बाघ के जल्द ट्रांसलोकेट करने की तैयारियों में जुट गया है। प्रशासन ने इससे संबंधित सभी कर्मियों को अलर्ट कर दिया है।

राजाजी में बाघ के कुनबा बढ़ाने को कुछ वर्ष पूर्व बाघों के ट्रांसलोकेसन का काम आरंभ हुआ था। अब यह का अपने अंतिम चरण में है।  जिम कॉर्बेट कॉर्बेट से चार बाघों (एक नर, तीन मादा) को सफलतापूर्वक ट्रांसलोकेट किया जा चुका है। जल्द ही पांचवें बाघ को लाने की तैयारी चल रही है।

मॉनिटरिंग टीम के साथ निदेशक सक्रिय

टाइगर मॉनिटरिंग टीम के साथ ही पार्क के निदेशक साकेत बडोला इसे लेकर सक्रिय हैं और हर स्थिति पर नजर बनाए हुए है। एक पखवाड़े के भीतर दो बाघिनों के शावकों के साथ दिखने से उत्साहित पार्क प्रशासन के समक्ष ट्रासकोलेशन के काम के साथ ही नन्हें शावकों को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती है। इसके मद्देनजर फायर सीजन व भीषण गर्मी को देखते मौके पर तैनात वन कर्मी अलर्ट मोड पर रखा गया है।

राजाजी टाइगर रिजर्व निदेशक साकेत बडोला के अनुसार, पार्क के पश्चिमी क्षेत्र में  कॉर्बेट से ट्रांसलोकेट की गई एक ओर बाघिन अपने नन्हें शावक के साथ नजर आयी है, एक पखवाड़े के भीतर यह दूसरी बार है। हमारी सभी टीमें हर परिस्थिति व इनके मूवमेंट पर नजर रख रही है, जल्द ही पांचवा बाघ भी यहां ट्रांसलोकेट किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *