अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

मेरठ से चोरी किया बच्चा मुजफ्फरनगर से बरामद, दिल्ली में दो लाख में बेचने की थी प्लानिंग

मेरठ से चोरी हुए बच्चे को आखिरकार मेरठ पुलिस ने मुजफ्फरनगर पुलिस की मदद से सकुशल बरामद कर लिया है. पूछताछ में पता चला कि दिल्ली में एक लाख रुपए में बच्चे के खरीदने की डील हुई थी. किसी दंपत्ति को बच्चा चाहिए था और इस गैंग ने बच्चा उपलब्ध कराने की हां भरी थी. बच्चा बरामद होने के बाद मेरठ पुलिस ने राहत की सांस ली.

मामला शुक्रवार दोपहर का है. अंकिता गुरुवार को मेरठ के रजबन में सहारनपुर से अपने मायके दो माह के बेटे के साथ आई थी. उनकी दूर की जानकार राधिका भी देवबंद से मेरठ आ गई. अंकिता की शादी सहारनपुर में अमित के साथ हुई है. राधिका अंकिता को कपड़े दिलाने और बच्चे के कपड़े दिलाने के बहाने लालकुर्ती पैठ ले गई. राधिका ने बच्चा अंकिता से गोदी में ले लिया और  अंकिता को सूट देखने के लिए कहने लगी. राधिका ने पानी का बहाना बनाया और बच्चा चोरी करके भाग निकली. अंकिता को काफी ढूंढने पर भी जब राधिका और बच्चा नहीं मिला तो लालकुर्ती थाना पुलिस को सूचना दे दी गई.

मुजफ्फरनगर में मिली सफलता

घटना के बाद मेरठ लालकुर्ती पुलिस अलर्ट हो गई. एसपी सिटी मेरठ आयुष विक्रम सिंह ने तुरंत टीम गठित कर दी. मुजफ्फरनगर के अफसरों को भी फोन कर दिया क्योंकि राधिका की लोकेशन मुजफ्फरनगर मिल रही थी. मेरिट और मुजफ्फरनगर पुलिस ने राधिका को गिरफ्तार कर लिया गया और उसकी बहन अनिता के घर से दो माह का बच्चा सकुशल बरामद हो गया. पुलिस ने एक एक करके सात लोगों को हिरासत में ले लिया.

बच्चे का फोटो व्हाट्सएप किया

पुलिस पूछताछ हुई तो पता चला कि बच्चा चोरी का गैंग दिल्ली तक फैला है. दिल्ली के एक दंपत्ति को बच्चे की जरूरत थी. दिल्ली की रहने वाली महिला सीमा ने एक लाख रुपए में बच्चा खरीदने की डील फाइनल की. राधिका ने दो माह के बच्चे का फोटो सीमा को भेजा, सीमा ने ओके कह दिया और बच्चा खरीदने की बात फाइनल हो गई. इसके बाद राधिका ने पूरी प्लानिंग की और अंकिता का दो माह का बच्चा चोरी कर लिया, लेकिन पकड़ी गई और गैंग के कई सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़ गए. मेरठ पुलिस ने वाकई गंभीरता दिखाई और एसपी सिटी आयुष विक्रम पल पल की अपडेट लेते रहे और बच्चा सकुशल बरामद हो गया.

कई बच्चे चोरी करके बेचने की बात आई सामने

इस पूरे मामले पर मेरठ के एसपी सिटी आयुष विक्रम सिंह ने बताया कि राधिका, अनीता, अन्नू, यूनुस, सीमा, महताब और साजिद को हिरासत में ले लिया है. उन्होंने बताया कि ये गैंग नकली नोट चलाने का भी काम करता है. कुछ बच्चे बेचने की बात सामने निकलकर आ रही है. गहनता से पूछताछ की जा रही है. हम सख्त एक्शन लेंगे. इस गैंग में और कौन कौन शामिल है, पूरा नेटवर्क खंगाला जा रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *