अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

12 लोगों को मौत की नींद सुलाने वाला डंपर चालक गिरफ्तार, पुलिस से बोला- वो मुझे जरा नींद की झपकी आ गई थी

खुटार। खुटार के ढाबे पर 12 बस सवार श्रद्धालुओं की मौत का जिम्मेदार डंपर चालक भीमसेन पकड़ लिया गया, उसे मेडिकल कराने के बाद मंगलवार को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर दिया। कोर्ट ने भीमसेन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। जेल जाने से पहले भीमसेन ने पुलिस को बताया कि उसने अभी तीन पहले ही डंपर चलाना सीखा था।
वह पूरी तरह से ट्रेंड नहीं था। डंपर चालक भीमसेन ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसकी उम्र 20 वर्ष है और वह अभी इतना परिपक्व भी नहीं है कि अधिक लोड भरकर वह डंपर को तेज गति में दौड़ने पर उस पर कंट्रोल कर सके। भीमसेन के इस बयान के बाद पुलिस की नजर उस डंपर मालिक पर है, जिसने अनट्रेंड भीमसेन को डंपर चलाने को कहा। उसकी भी गिरफ्तारी हो सकती है।

खुटार में गोला रोड पर स्थित ऋषि ढाबा के पास 25 मई की रात सीतापुर के श्रद्धालुओं के लिए काल बनकर आई थी, जिसमें बजरी से भरे डंपर से मां पूर्णागिरि धाम उत्तराखंड को दर्शन करने जा रहे 12 श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी। सभी मृत व घायल जिला सीतापुर के कमलापुर थाना क्षेत्र के गांव बड़ा जटहा के निवासी थे। इस मामले में खुटार पुलिस ने बड़ा जटहा निवासी रुपेश कुमार की तहरीर पर अज्ञात डंपर चालक के खिलाफ कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। सोमवार की रात खुटार पुलिस ने पूरनपुर रोड कुइया गांव के पास सड़क किनारे बिल्ला ढाबे से डंपर चालक भीमसेन को गिरफ्तार कर लिया था। भीमसेन पीलीभीत के जहानाबाद के मोहल्ला जोशी का निवासी है।

जानिए डंपर चालक की जुबानी, हादसे की कहानी

=डंपर चालक भीमसेन ने पुलिस को बताया कि वह 25 मई को डंपर में उत्तराखंड के सितारगंज से गिटटी भरकर लखीमपुर जा रहा था। वह खुटार थाना क्षेत्र के गोला रोड स्थित ऋषि ढाबा के पास पहुंचा ही था कि डंपर की रफ्तार तेज हो गई। भीमसेन ने तेज रफ्तार डंपर को कंट्रोल करना चाहा, लेकिन डंपर में लोड अधिक होने पर बैलेंस बिगड़ गया और ऋषि ढाबे के पास मां पूर्णागिरि धाम उत्तराखंड को जा रहे श्रद्धालु जोकि ढाबे के पास जमीन पर बैठे खाना खा रहे थे, उन पर चढ़ गया। जिस पर उसने डंपर को बैक करने का प्रयास करना शुरू किया तो वह बस पर पलट गया, जिससे बस के अंदर बैठे श्रद्धालुओं की भी मौतें हो गई और कई श्रद्धालु बजरी के नीचे भी दब गए, बड़ा हादसा होने पर वह डंपर को छोड़कर मौके से भाग गया।

चौथे दिन भी हादसे वाली जगह पर दिख रहा है भयावह मंजर

=25 मई की रात को डंपर द्वारा 12 श्रद्धालुओं की मौत व 10 श्रद्धालुओं को घायल करने वाली जगह पर भयावह जैसी स्थिति चौथे दिन भी बनी हुई है। राहगीर डंपर व बस के उड़े परखच्चों को देख देख कर रोड से गुजरने वाले प्रत्येक वाहन चालक अपने वाहन की गति को धीमा कर रोंगटे खड़े हो जाने वाली स्थिति देखकर घटना की चर्चा करते हुए गुजरते हैं।

मंगलवार को मौके पर पहुंचा बस स्वामी

=डंपर पलटने से बस के परख्च्चे उड़ गए थे, जिस पर मंगलवार को बस स्वामी जिला सीतापुर के थाना व कस्बा लहरपुर के मोहल्ला पुरबिया टोला निवासी मोहम्मद हनीफ से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि वह बस को टूरिस्ट पर भेजते हैं और 25 मई को उनका बस चालक अनित कुमार निवासी लहरपुर के मोहल्ला अंबर सराय, थाना कमलापुर क्षेत्र के गांव बड़ा जटहा से श्रद्धालुओं को लेकर पूर्णागिरि धाम को जा रहा था कि रात में ढाबे पर श्रद्धालुओं द्वारा खाना आदि चल रहा था कि उसी समय यह हादसा हो गया। उन्होंने बताया कि बस पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई है और इसे अलग-अलग पुर्जों को काटकर ही ले जाएंगे।

पूरनपुर-गोला रोड के ढाबों पर रहेगी पुलिस की नजर

=थानाध्यक्ष संजय कुमार ने बताया कि पूरनपुर गोला रोड पर बने ढाबों पर पुलिस कड़ी नजर रखेगी और ढाबों पर रुकने वाले वाहनों को पार्किंग में ही खड़े करने के निर्देश दिए गए हैं, यदि कोई वाहन चालक या ढाबा स्वामी रोड के किनारे कोई भी वाहन खड़ा कराता है तो उसके खिलाफ भी कठोर कार्रवाई की जाएगी। उधर, एआरटीओ शांति भूषण पांडे ने भी खुटार में डेरा डाल दिया। मंगलवार को उन्होंने बजरी से भरे कई डंपरों को चेक किया, कई डंपरों के चालान काटने के बाद थाने में खड़े भी कराए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *