अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

ब्वॉयफ्रेंड के इश्क में डूबी महिला ने कराया पति का मर्डर, चारों हत्यारे गिरफ्तार

फिरोजाबाद। सरजीवन नगर निवासी मजदूर की हत्या अवैध संबंध में बाधक बनने पर उसकी पत्नी ने अपने प्रेमी और उसके दो दोस्तों की मदद से कराई थी। तीनों लोग मजदूर को बाइक से सोफीपुर ले जाकर यमुना में स्नान की थी। इसके बाद तीनों ने शराब पी।

वहां से लौटते समय चलती बाइक पर अंगोछे से गला कस कर हत्या कर दी। फिर शव को दौलतपुर के पास प्लाट में फेंक दिया। हत्या की जानकारी मजदूर की पत्नी को भी दी थी। सोमवार को चारों आरोपित जेल भेज दिए गए।

प्लॉट में मिला था शव

पुलिस ने जौनी की पत्नी ज्ञानवती के मोबाइल के कॉल डिटेल खंगाले तो उसके और प्रेमी जय सिंह यादव निवासी जारखी पचोखरा के बीच चैटिंग और आपत्तिजनक फोटो मिले। दोनों अक्सर माेबाइल पर बात करते थे। शक के आधार पर पुलिस ने दोनों से पूछताछ की।

जौनी अवैध संबंधाें में बाधक था

एसपी सिटी सर्वेश कुमार मिश्रा ने सोमवार को हत्याकांड का पर्दाफाश करते हुए बताया कि ज्ञानवती और जय सिंह यादव के बीच अवैध संबंध में जौनी बाधक बन रहा था। इसलिए ज्ञानवती के कहने पर उसने अपने दोस्त योगेश और प्रांशु निवासीगण मदावली टूंडला की मदद से हत्या करने का निर्णय लिया।

घटना के दिन उसने अपने दोनों दाेस्तों को ककरऊ कोठी चौराहे पर बुलाया। जौनी को भी बुलाया। वह और उसके दोस्त जौनी को साेफीपुर घाट पर ले गए। वहां शराब पी। जौनी ने अधिक शराब पी ली थी। वहां से मक्खनपुर, चनौरा बाईपास होते हुए लौटे। जय के अनुसार वह बाइक चला रहा था। बीच में बैठे प्रांशु और योगेश ने गला कस कर हत्या कर दी। इसके बाद शव को फेंक दिया। वार्ता के समय सीओ सिटी हिमांशु गौरव व एसओ उत्तर वैभव कुमार सिंह भी थे।

तीन वर्ष पहले मैरिज होम में ज्ञानवती से मिला था जय

आरोपित जय सिंह यादव ने बताया कि वह डीजे बजाने का काम करता था। तीन वर्ष पहले बैकुंठी मैरिज होम टूंडला में शादी समारोह में डीजे बजाने गया था। वहीं पर ज्ञानवती फूल वर्षा करने आई थी। पहली बार दोनों वहीं मिले थे। इसके बाद मोबाइल पर दोनों अक्सर बात करते रहे। कुछ दिन बाद संबंध बन गए।

होटलों में भी जाते थे जय व ज्ञानवती, पति से कराई थी दोस्ती

जय और ज्ञानवती होटलों में भी मिलते थे। ज्ञानवती ने ही अपने पति जौनी की दोस्ती जय से कराई थी। इस बहाने जय ज्ञानवती के घर पर भी आने-जाने लगा। वह दंपती की आर्थिक मदद भी करता था। 14 मई को भी जय ने कुछ रुपये जौनी के बैंक खाते में डाला था। जौनी भी जय पर विश्वास करने लगा था। परंतु धीरे-धीरे जौनी व उसके स्वजन दोनों पर शक करने लगे। जौनी ने पत्नी के मोबाइल का पासवर्ड बदल दिया था।

जय को घर आने के लिए किया था मना

जय सिंह यादव ने पुलिस को बताया कि हत्या करने के बाद उसने ज्ञानवती को जानकारी दी थी। इसके बाद टूंडला स्थित ढाबे पर खाना खाकर तीनों दोस्त अपने घर लौट गए थे। अगले दिन भी उसने सुबह पांच बजे ज्ञानवती से बात की थी। ज्ञानवती ने जय को अपने घर पर मना किया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *