अपराधदिल्ली/एनसीआरनई दिल्ली

दिल्‍ली पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया शूटर ‘गोली’, पुर्तगाल से गिरोह चलाने वाले हिमांशु भाऊ के लिए करता था काम

राजधानी दिल्ली से एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां देर रात पुलिस की स्पेशल सेल और कुछ बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई. इसमें गोली लगने से एक अजय उर्फ गोली नाम का शूटर मारा गया. अजय, पुर्तगाल में बैठे गैंगस्टर हिमांशु भाऊ का शूटर था. यह मुठभेड़ राजधानी के आउटर दिल्ली के भलस्वा डेरी इलाके में हुई. पुलिस ने बताया कि जो बदमाश मारा गया है वो तिलक नगर फायरिंग में वांटेड था. वहीं, अलीपुर में हुई मुठभेड़ में शूटर अभिषेक उर्फ चूरन को पुलिस ने धर दबोचा है. यह बदमाश भी हिमांशु भाई का ही शूटर है.

पुलिस ने बताया कि मृतक अजय उर्फ गोली हरियाणा के सोनीपत का रहने वाला था. वह हिमांशु का भाऊ का काफी करीबी था और बतौर शूटर उसके लिए काम किया करता था. पुलिस की स्पेशल सेल ने अलीपुर में हुई एक अलग मुठभेड़ में हिमांशु भाऊ के एक अन्य शूटर चूरन को धर दबोचा. इस बदमाश का नाम अभिषेक उर्फ चूरन है. यह भी तिलक नगर फायरिंग में वांटेड था.

6 मई को 2 शूटर्स ने दिल्ली के तिलक नगर में 15 से ज्यादा गोलियां बरसाईं थीं. इस दौरान किसी की जान नहीं गई थी. मगर, वहां शो-रूम में लगा कांच टूटने की वजह से चार लोगों को चोट लग गई थी. पूछताछ में गैंगस्टर हिमांशु भाऊ का नाम सामने आया था. अजय और अभिषेक वही शूटर हैं जिन्होंने फायरिंग की वारदात को अंजाम दिया.

कौन है गैंगस्टर हिमांशु भाई?

22 साल का गैंगस्टर हिमांशु भाऊ हरियाणा के रोहतक का रहने वाला है. इंटरपोट ने उसके खिलाफ साल 2023 में रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था. हिमांशु भाऊ पर ढाई लाख रुपए का इनाम घोषित है. उस पर कथित तौर पर जाली पासपोर्ट के जरिए साल 2022 में भारत से भागने का आरोप है. उसकी आखिरी लोकेशन पुर्तगाल की मिली है, तो अंदेशा लगाया जा रहा है कि हिमांशु भाऊ पुर्तगाल में छिपा बैठा है. उसका नाम देश के टॉप 10 मोस्ट वांटेड गैंगस्टर्स की लिस्ट में शुमार है. हिमांशु भाई दर्जनों शूटर्स का सिंडिकेट चलाता है.

हिमांशु भाऊ का आपराधिक रिकार्ड

हिमांशु और उसके गिरोह पर हत्या, धोखाधड़ी, लूट, फिरौती के 18 ज्यादा केस दर्ज हैं. पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार हिमांशु भाऊ पर 10 केस रोहतक जिले में दर्ज हैं, 7 केस झज्जर जिले में दर्ज हैं तो वहीं एक केस उत्तरी दिल्ली में दर्ज है. हिमांशु पर हरियाणा पुलिस ने लगभग डेढ़ लाख का ईनाम घोषित कर रखा है. जबकी दिल्ली पुलिस की तरफ से उस पर एक लाख का ईनाम घोषित किया गया है.

भाऊ की बहन भावना पर पुलिस की नजर

दिल्ली और हरियाणा पुलिस ने हिमांशु पर मानसिक दवाब बनाने के लिए उसकी बहन और परिजनों को अपने निशाने पर ले रखा है. भाऊ की पुर्तगाल में लोकेशन को तलाशने के साथ-साथ पुलिस उसके सिंडिकेट के सक्रिय सदस्यों के बारे में भी पता कर रही है. हिमांशु के परिजनों के ठिकानों पर दबिश डालने की कमान खुद हरियाणा पुलिस के महानिरीक्षक (आईजी) ने अपने हाथों में ले रखी है. हिमांशु को काबू करने और उसे पुर्तगाल से भारत लाने के लिए पुलिस हर संभव कोशिश कर रही है, लेकिन फिलहाल तो पुलिस उसकी परछाई से भी काफी दूरी पर है. पुलिस कब तक हिमांशु को गिरफ्तार कर लेगी इसका जवाब फिलहाल खुद पुलिस अफसरों के पास भी नहीं है.

हिमांशु भाऊ के समर्थक

हिमांशु भाऊ को पंजाब के गैंगस्टर बंबीहा के साथ-साथ हरियाणा के गैंगस्टर नीरज बवाना, नवीन बाली और उनके गिरोह का भी समर्थन मिला हुआ है. हिमांशु की दुश्मनी लॉरेंस बिश्नोई और उसके सिंडिकेट से है, जबकि हिमांशु की गिरोह के दो खास सदस्य साहिल कादियान और योगेश कादियान विदेश में बैठकर अपने गुर्गों की मदद से हरियाणा और दिल्ली में आपराधिक गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *