अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

मेरठ हत्याकांड; बेटा मां को दे रहा था गालियां, पिता ने पेट में चाकू घोप कर दी थी हत्या

मेरठ में एक मई को हुई जिम ट्रेनर दीपक की हत्या किसी और ने नहीं बल्कि सेना से रिटायर्ड हवलदार पिता ने की थी. पुलिस ने हत्याकांड का राजफाश करते हुए हत्यारोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है और खून से सने कपड़े भी बरामद कर लिए हैं. बेटे की हत्या का पिता को काफी दुख है और जिस दिन हत्या की गई पिता ने शराब पी रखी थी.

मामला गंगानगर थाना इलाके की ईशा पुरम कॉलोनी का है. यहां सेना से रिटायर्ड हवलदार हवा सिंह अपने परिवार के साथ रहते हैं. उनके दो बेटे दीपक, पंकज और बेटी ज्योति है. दीपक की शादी स्याना की रहने वाली शीतल से हुई. अभी कुछ दिन पहले हवा सिंह ने छोटे बेटे पंकज की प्लॉट खरीदने में मदद की थी. इसी बात को लेकर दीपक गुस्से में था. दीपक की सैलरी भी काम थी और वो पेप्सी मांगता रहता था, जिसको लेकर परिवार में झगड़ा रहता था. एक मई को बात इतनी बढ़ गई कि हवा सिंह ने बेटे की चाकू मारकर हत्या कर दी. जिस चाकू को 25 साल पहले उन्होंने देहरादून से खरीदा था उसी चाकू से बेटे का कत्ल कर दिया.

दीपक ने पापा की पकड़ी थी गिरेबान?

छोटे बेटे पंकज की प्लॉट खरीदने में मदद करना बड़े बेटे दीपक को इतना नागवार गुजरा कि मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ दी. 30 अप्रैल को उसने अपने पिता हवा सिंह की गिरेबान भी पकड़ ली थी और एक मई को अपनी मां संता से अभद्रता की थी. पत्नी से अभद्रता होता देख वो आपा खो बैठे और चाकू मारकर बेटे की हत्या कर डाली.

चॉकलेट से खुला राज 

दीपक हत्याकांड में चॉकलेट ने पूरा राजफाश कर दिया. हवा सिंह की बेटी ज्योति के पति पुलिस में हैं और इसी वजह से ज्योति अपने पिता हवा सिंह के साथ ही घर पर रहती है, जिस दिन कत्ल हुआ उस दिन ज्योति की पांच साल की बेटी भी घर पर मौजूद थी. धेवती अपने नाना को पापा कहती है. पुलिस ने जब महिला दरोगा से हवा सिंह की पांच साल की धेवती को चॉकलेट देकर प्यार से पूछताछ की तो उसने बताया कि पापा ने मामा को बक्से से चाकू निकालकर मार डाला. बस यहीं से पुलिस का शक यकीन में बदल गया. हालांकि दीपक की पत्नी शीतल ने भी ससुर हवा सिंह पर ही पति दीपक की हत्या का आरोप लगाया था.

बेटे के कत्ल पर हवा सिंह बोले?

अपने बेटे दीपक के कत्ल के बाद पिता हवा सिंह को बेहद अफसोस है. उनका कहना है शराब के नशे में था और मेरे हाथ गुनाह हो गया. अपने ही बेटे के खून से मेरे हाथ रंग गए. बहुत गुस्से में था मैं, दीपक ने मेरी गिरेबान पकड़ी, गाली गलौज करता था, अपनी मां से अभद्रता की तो बर्दाश्त नहीं हुई और देहरादून से जो चाकू 25 साल पहले खरीदा था उसी से बेटे को मार डाला. न चाकू रखा होता और न मेरे बेटे का मेरे हाथों कत्ल होता. बेटे के कत्ल की बात बताते बताते वो रो भी पड़े.

पुलिस ने खून से सने कपड़े बरामद किए

एक मई को दीपक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. चर्चा थी कि उसकी हत्या की गई, जबकि परिवार के लोग कह रहे थे संदिग्ध परिस्थितियों में उसे चाकू लगा. पुलिस ने उसी दिन खून से रंगा चाकू बरामद कर लिया था. गंगानगर थाना प्रभारी कुलदीप सिंह ने बताया कि हवा सिंह ने छोटे बेटे की प्लॉट खरीद में मदद की थी और दीपक इसके बाद और आक्रामक हो गया था. हत्या से एक दिन पहले ससुराल पक्ष के लोगों ने पंचायत भी की थी, लेकिन मामले का निपटारा नहीं हुआ और बात कत्ल तक जा पहुंची. खून से सने कपड़े भी बरामद कर लिए हैं और खुद हवा सिंह ने भी बेटे के कत्ल की बात कबूल कर ली.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *