अपराधदिल्ली/एनसीआरनई दिल्ली

केजरीवाल को लेने घर से रवाना हुईं पत्नी सुनीता, तिहाड़ जेल पहुंचा रिलीज ऑर्डर

लोकसभा चुनाव के बीच अरविंद केजरीवाल को बड़ी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 1 जून तक अंतरिम राहत दे दी है। यह राहत चुनाव प्रचार के लिए दी गई है। इस फैसले के चलते आम आदमी पार्टी में जश्न का माहौल है। पार्टी के नेता और समर्थन इसे बहुत बड़ी जीत बता रहे हैं। इसी कड़ी में अब अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल का बयान सामने आया है। उन्होंने सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म एक्स पर इस फैसले का स्वागत किया है और इसे लोकतंत्र की जीत बताया है।

उन्होंने अपनी खुशी जाहिर करते हुए एक्स पर लिखा, हनुमान जी की जय। ये लोकतंत्र की जीत है। लाखों – करोड़ों लोगों की दुआओं और आशीर्वाद का फल है। सभी को कोटि कोटि धन्यवाद। बता दे, हाल ही में सुनीता केजरीवाल अरविंद केजरीवाल की गैरहाजिरी में जोर-शोर से चुनाव प्रचार में हिस्सा लेती नजर आईं थी। उन्होंने आप उम्मीदवारों के समर्थन में दिल्ली में रोड शो भी किए थे और विरोधियों पर निशाना भी साधा था। आम आदमी पार्टी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट में भी उनका नाम अरविंद केजरीवाल के बाद नंबर 2 पर है।

फिलहाल केजरीवाल का रिलीज ऑर्डर तिहाड़ पहुंच चुका है और सुनीता केजरीवाल भी अरविंद केजरीवाल को लेने घर से निकल गई हैं। उनके साथ उनकी बेटी भी मौजूद है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक केजरीवाल को दो जून को सरेंडर करना होगा और वापस जेल जाना होगा। एक जून सात चरण के लोकसभा चुनाव के मतदान आखिरी दिन है। मतगणना चार जून को होगी।

उधर दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा, “केजरीवाल को 40 दिन बाद अंतरिम जमानत मिलना किसी चमत्कार से कम नहीं है। यह दैवीय संकेत भी है कि देश में मौजूदा हालात बदलने वाले हैं। उनकी रिहाई से देश में बड़े बदलावों का मार्ग प्रशस्त होगा।” पार्टी की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने कहा कि देश में लोकतंत्र से प्यार करने वाले सभी लोग शीर्ष अदालत के फैसले से बहुत खुश हैं और यह उनके लिए आशा की किरण है।

उन्होंने कहा, “शीर्ष अदालत के फैसले ने न केवल केजरीवाल को अंतरिम जमानत प्रदान की है, बल्कि लोकतंत्र और संविधान की जीत भी सुनिश्चित की है।” आप नेता और दिल्ली की मंत्री आतिशी ने शीर्ष अदालत के फैसले को देश में सच्चाई तथा लोकतंत्र की जीत बताया। उन्होंने कहा कि यह फैसला लोकतंत्र को बचाएगा और स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराएगा।

आतिशी ने कहा, “मैं लोगों से अपील करना चाहती हूं कि वोट की ताकत से लोकतंत्र को बचाने और देश में तानाशाही को बदलने का यह आखिरी मौका है।” पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में, कहा, “सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं। माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णय है स्वागत है। तानाशाही खत्म होगी। सत्यमेव जयते।” आप विधायक दुर्गेश पाठक ने पीटीआई-भाषा से कहा, “हम उच्चतम न्यायालय के आदेश का स्वागत करते हैं। सत्यमेव जयते! तानाशाही खत्म होगी।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *