राष्ट्रिय

MDH, एवरेस्ट मसालों की और बढ़ी मुश्किल, हॉन्गकॉन्ग, सिंगापुर के बाद अमेरिका में भी रेड फ्लैग, हरकत में आया FDA

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) भारतीय मसाला निर्माताओं एमडीएच और एवरेस्ट के उत्पादों के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहा है, क्योंकि हांगकांग ने कथित तौर पर कैंसर पैदा करने वाले कीटनाशकों की उच्च मात्रा होने के कारण उनके कुछ उत्पादों की बिक्री रोक दी है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, एफडीए के एक प्रवक्ता ने शुक्रवार (26 अप्रैल) को कहा, ”एफडीए रिपोर्टों से अवगत है और स्थिति के बारे में अतिरिक्त जानकारी जुटा रहा है।”

हांगकांग ने इस महीने फिश करी के लिए तीन एमडीएच मसाला मिश्रण और एक एवरेस्ट मसाला मिश्रण की बिक्री निलंबित कर दी है। वहीं, सिंगापुर ने एवरेस्ट मसाला मिश्रण को वापस लेने का आदेश देते हुए कहा कि इसमें एथिलीन ऑक्साइड का उच्च स्तर है, जो इंसानों के इस्तेमाल के लिए फिट नहीं है और लंबे समय तक इसके संपर्क में रहने से कैंसर का खतरा है।

एवरेस्ट का दावा- मसाले इस्तेमाल के लिए सुरक्षित

यूएस न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, रॉयटर्स ने इस संबंध में सबसे पहले रिपोर्ट प्रकाशित की थी। एमडीएच और एवरेस्ट ने इस मामले पर टिप्पणी के लिए रॉयटर्स के अनुरोधों का तुरंत जवाब नहीं दिया। एवरेस्ट ने पहले कहा है कि उसके मसाले उपभोग के लिए सुरक्षित हैं। एमडीएच ने अब तक अपने उत्पादों के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दिया है।

FSSAI अब दोनों कंपनियों के गुणवत्ता मानकों की कर रहा जांच

एमडीएच और एवरेस्ट मसाले भारत में सबसे लोकप्रिय हैं और यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका में भी बेचे जाते हैं। भारत का खाद्य नियामक भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) हांगकांग और सिंगापुर के कदमों के बाद अब दोनों कंपनियों के गुणवत्ता मानकों की जांच कर रहा है।

मसाला निर्यात के लिए भारत सरकार के नियामक मसाला बोर्ड ने बुधवार को कहा कि उसने हांगकांग और सिंगापुर के अधिकारियों से एमडीएच और एवरेस्ट निर्यात पर डेटा मांगा था और निरीक्षण के रूप में गुणवत्ता के मुद्दों के मूल कारण का पता लगाने के लिए कंपनियों के साथ काम कर रहा है। बता दें कि 2019 में अमेरिका में साल्मोनेला संदूषण के कारण एमडीएच के उत्पादों के कुछ बैचों को वापस ले लिया गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *