अपराधदिल्ली/एनसीआरनई दिल्ली

अरविंद केजरीवाल को पहली बार दी गई इंसुलिन, तिहाड़ जेल में लगातार बढ़ रहा था शुगर लेवल

दिल्ली शराब घोटाला से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) को आखिरकार इन्सुलिन का इंजेक्शन (Insulin Injection) दे दिया गया है. ED की गिरफ्तारी के बाद पहली बार उनको इन्सुलिन दी गई है, ये जानकारी सूत्रों के हवाले से सामने आई है. दावा किया जा रहा था कि अरविंद केजरीवाल का शुगर लेवल लगातार हाई हो रहा था. दिल्ली सीएम का शुगर लेवल 320 तक पहुंच गया था, जिसके बाद उनको इन्सुलिन का इंजेक्शन दिया गया है.

तिहाड़ जेल सूत्रों के मुताबिक, सोमवार शाम केजरीवाल को लो डोज का इन्सुलिन दिया गया था. उन्होंने कहा कि एम्स के डॉक्टर ने कल सलाह दी थी कि अगर बहुत जरूरत हो तो इन्सुलिन दे दिया जाए. जिसके बाद शाम को ही इन्सुलिन दे दिया गया. उन्होंने कहा कि केजरीवाल का शुगर लेवल 217 हो गया था, जिसके बाद लो डोज-2 इन्सुलिन दिया गया. पहले जब केजरीवाल जेल के बाहर थे तब 50 यूनिट इन्सुलिन का डोज लेते थे. सोमवार को सुनीता केजरीवाल ने भी अरविंद केजरीवाल से जेल में मुलाकात की थीं.

“डॉक्टरों की सलाह पर शुगर मरीजों को दी जा रही दवा”

अरविंद केजरीवाल को तिहाड़ जेल में इंसुलिन न दिए जाने की खबर के बीच जमकर विवाद चल रहा है.पार्टी लगातार आरोप-प्रत्यारोप लगा रही थी. इस पर जेल के महानिदेशक संजय बेनीवाल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से लगाए गए आरोपों का खंडन करते हुए कहा था कि तिहाड़ में लगभग 1,000 मधुमेह रोगी हैं और उन्हें एम्स और राम मनोहर लोहिया अस्पताल सहित वरिष्ठ डॉक्टरों की सलाह के अनुसार भोजन और दवा दी जाती है. उन्होंने एनडीटीवी से कहा था, ”हम आमतौर पर इस तरह के दबाव का सामना करते हैं, हमें इसे सहने की आदत है, यह जीवन का हिस्सा है.”

तिहाड़ जेल प्रशासन पर लगा था इन्सुलिन न देने का आरोप

केजरीवाल यह आरोप लगाते हुए अदालत गए, कि दिल्ली शराब नीति मामले में 21 मार्च को उनकी गिरफ्तारी के बाद से उन्हें इंसुलिन से वंचित किया जा रहा है. एक निजी चिकित्सक के साथ वीडियो कॉल के उनके अनुरोध को मामले की सुनवाई कर रही दिल्ली की विशेष अदालत ने अस्वीकार कर दिया है.स बीच उनकी आम आदमी पार्टी ने तिहाड़ जेल के बाहर विरोध प्रदर्शन किया था.

“सभी कैदियों के लिए एक सामान्य प्रक्रिया”

जेल मैनुअल के तहत मौजूदा व्यवस्था के बारे में बताते हुए जेल के महानिदेशक ने कहा था कि जब किसी की बीमारी गंभीर होती है, तो हम रेफरल अस्पताल से सलाह लते हैं, जो जेल के बाहर है. उन्होंने कहा, “हमारे रेफरल अस्पतालों में एम्स, आरएमएल और अन्य अस्पताल शामिल हैं. यह सभी कैदियों के लिए एक सामान्य प्रक्रिया है. किसी भी विशेष कैदी के लिए कोई ए बी सी डी श्रेणी नहीं है.” लगतार चल रहे इस विवाद के बीच अरविंद केजरीवाल को आखिरकार जेल में इन्सुलिन दिए जाने की खबर सूत्रों के हवाले से सामने आई है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *