उत्तराखण्डराजनीतिराज्य

भाजपा में शामिल हुईं पूर्व मंत्री हरक की बहू अनुकृति गुसाईं, कुछ दिन पहले ही छोड़ी थी कांग्रेस

देहरादून: पूर्व मिस इंडिया ग्रैंड इंटरनेशनल और पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत की पुत्रवधू अनुकृति गुसाईं भी बीजेपी में शामिल हो गई हैं. हाल ही में अनुकृति ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया था. इसके बाद वोटिंग से ठीक पहले अनुकृति ने एक वीडियो जारी कर अनिल बूलनी के पक्ष में वोट करने की अपील की थी. जिसके बाद अनुकृति के बीजेपी में शामिल होने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था.

अनुकृति गुसाईं के खिलाफ जांच पर महेंद्र भट्ट ने कही ये बात: आज बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने अनुकृति गुसाईं, उधम सिंह नगर से जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू गंगवार और उनके पति सुरेश गंगवार को पार्टी की सदस्यता दिलवाई. इस दौरान बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी पर विश्वास करने वाले लोगों को पार्टी में सदस्यता दिलवाई गई है. जहां तक बात किसी जांच की है तो वो कानूनी प्रक्रिया है और कानून इस पर अपना काम करेगा.

बीजेपी ज्वाइन करने के बाद क्या बोलीं अनुकृति गुसाईं? वहीं, भारतीय जनता पार्टी का दामन थामने के बाद अनुकृति गुसाईं ने कहा कि वो बीजेपी परिवार में शामिल हो रही है. विकसित उत्तराखंड का जो सपना उन्होंने देखा था, उन्हें लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही इस सपने को पूरा किया जा सकता है.

सीबीआई और ईडी की जांच पर क्या बोलीं अनुकृति गुसाईं? अनुकृति गुसाईं ने कहा कि पाखरो टाइगर सफारी मामले में हाईकोर्ट के निर्देश के बाद सीबीआई जांच चल रही है. इसके बाद ईडी भी इस मामले में जांच कर रही है. जब भी एजेंसी उनसे पूछताछ करना चाहेगी, वो इसके लिए तैयार है.

2022 में लैंसडाउन विधानसभा सीट से चुनाव लड़ चुकी हैं अनुकृति गुसाईं: बता दें कि साल 2022 के विधानसभा चुनाव में अनुकृति गुसाईं ने कांग्रेस के टिकट पर लैंसडाउन विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन बुरी तरह से हारी थीं. अनुकृति गुसाईं उत्तराखंड कांग्रेस के दिग्गज नेता हरक सिंह रावत की पुत्रवधू हैं.

वोट प्रतिशत में गिरावट पर महेंद्र ने कही ये बात: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने मतदान प्रतिशत की गिरावट पर भी अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि देवभूमि ने दिल खोलकर मोदी के पक्ष में वोट दिया है और बीजेपी संगठन ने अपने कार्यकर्ताओं को जो दायित्व दिया था, उस दायित्व का पार्टी कार्यकर्ताओं ने निर्वहन किया है.

महेंद्र भट्ट ने कहा कि मतदान प्रतिशत कम होने के बाद भी बीजेपी कुल मत का 75% मत लेने में कामयाब होगी. कम मतदान का सबसे बड़ा कारण कांग्रेस नेताओं की उदासीनता रही और इसलिए उनके समर्थकों ने पोलिंग स्टेशन तक जाने की जहमत नहीं उठाई. इसके अलावा मौसम और वैवाहिक समारोह भी वजह रही.

इस दौरान महेंद्र भट्ट ने निर्वाचन आयोग की ओर से मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए और ज्यादा प्रयास करने की बात कही. उन्होंने कहा कि जिन जगहों पर लोगों ने मतदान का विरोध किया है, उस पर भी सरकार को विचार करना होगा. हालांकि, कई बार यह विरोध ऐसी वजह से होता है, जिसके लिए सरकार भी चिंतित होती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *