अपराधउत्तर प्रदेशराजनीतिराज्य

विधायक पंकज मलिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज, थानाध्यक्ष से हुई थी गर्मागर्मी, गाड़ी की गई सीज

मुजफ्फरनगर। पुलिस ने निर्धारित समय अवधि पूरी होने के पश्चात चुनाव प्रचार करने के आरोप में सपा विधायक पंकज मलिक के विरुद्ध आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया है। साथ ही विधायक की कार को सीज कर दिया।

इसको लेकर विधायक और पुलिस के बीच नोकझोंक भी हुई। विधायक का आरोप है कि कार्रवाई भाजपा नेता के इशारे पर की गई है, वह चुनाव प्रचार नहीं कर रहे थे, बल्कि विवाह समारोह में शामिल होकर लौट रहे थे।

तितावी थाना प्रभारी जोगिंद्र सिंह ने बताया कि गुरुवार की शाम साढ़े चार बजे उन्हें सूचना मिली कि चरथावल से सपा विधायक पंकज मलिक धनसैनी गांव में कार्यकर्ताओं के साथ चुनाव प्रचार कर रहे हैं। जब वह मौके पर पहुंचे तो वह कार से वापस लौट रहे थे।

कार रोक कर उन्होंने विधायक से जानकारी करने का प्रयास किया। इस पर विधायक की थाना प्रभारी से तीखी नोकझोंक हो गई। इसकी जानकारी मिलने पर विधायक समर्थक वहां पहुंच गए। उन्होंने पुलिस पर एक तरफा कार्रवाई का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया।

आरोप लगाया कि भाजपा प्रत्याशी के दबाव में पुलिस काम कर रही है। काफी देर तक चले हंगामे के बाद विधायक की कार को पुलिस थाने ले आई, जबकि विधायक ई-रिक्शा में बैठकर वहां से चले गए।

विधायक पंकज मलिक ने फेसबुक पर लाइव आकर मुख्यमंत्री और डीजीपी से कहा कि यहां पुलिस मनमानी कर रही है, मैं धनसैनी गांव में शादी समारोह में शामिल होने के लिए आया था। गांव से बाहर निकलते ही एक बुजुर्ग सामने आ गए, जिनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया था, तभी तितावी थाना प्रभारी वहां पहुंच गए और चुनाव प्रचार करने का आरोप लगाते हुए उनकी कार को सीज कर दिया।

उधर, सीओ फुगाना डाॅ. रविशंकर ने बताया, विधायक पंकज मलिक के पिता हरेंद्र मलिक सपा से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। पुलिस को सूचना मिली थी कि पंकज मलिक धनसैनी गांव में कार्यकर्ताओं के साथ चुनाव प्रचार कर रहे हैं।

पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उनके काफिले में शामिल अन्य गाड़ियों में सवार कार्यकर्ता भाग गए थे। विधायक की कार को सीज कर चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *