अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

हैलो! फूफा मुझे बचा लो, जो रुपए लगेंगे मैं दूंगा कहकर ठग ने AI डीपफेक से की ठगी

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक सब्जी बेचने वाले को AI के माध्यम से आवाज बदलकर कॉल की गई. पुलिस का दरोगा बनकर फोन पर दूसरी तरफ से भतीजे के रोने की आवाज सुनाई गई. रेप केस में फंसे होने की बात कहकर गुहार लगाता हुआ भतीजा खुद को बचाने की बात कहने लगा. जिसके बाद फूफा ने जैसे तैसे आसपास के लोगों से चंदा करके बैंक अकाउंट में एक लाख रुपए ट्रांसफर कर दिया. फिर जब फूफा को पता चला कि उसके साथ फ्रॉड हो गया है तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई.

फ्रॉड जिस व्यक्ति के साथ हुआ वह पैसे जमा कर जब परेशान हो गया तो आसपास के लोगों ने कारण पूछा। तो उसने आपबीती बताई. जिसके बाद लोगों की सलाह पर उसने अपने साले को फोन किया तो पता चला भतीजा मनोज सुरक्षित है. जिसके बाद पता चला कि उसके साथ एक लाख रुपए का फ्रॉड हो गया है. पहले तो वह पास की ही चौकी में शिकायत के लिए गया, लेकिन वहां उसकी एक न सुनी. परेशान होकर सब्जी बेचने वाला साइबर सेल स्वरूप नगर थाने पहुंचा, जहां उसने प्रार्थना पत्र दिया. हालांकि ज्यादा जानकारी न होने के कारण अभी तक उसके इस मामले में कुछ भी नहीं हुआ और उसका एक लाख रुपया भी चला गया.

डीसीपी सेंट्रल ने कही जांच की बात

डीसीपी सेंट्रल ने पूरे मामले में जांच किए जाने की बात कही है. पूरा मामला फजलगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत 5 नंबर गुमटी बंबा रोड पर सब्जी मंडी का है. इसी सब्जी मंडी में दिनेश सिंह आलू और प्याज की सब्जी की दुकान लगाते हैं. रोजाना की तरह सुबह तकरीबन 10 बजे दिनेश अपनी दुकान पर बैठे हुए थे. तभी उनके फोन पर एक व्हाट्सएप कॉल आया जिसमें गुड़गांव में रहने वाले उनके साले के बेटे मनोज की आवाज आई कि फूफा मैं कानपुर आ रहा हूं. रास्ते में मुझे पुलिस ने पकड़ लिया है. इतना कहते ही कॉल को दूसरे व्यक्ति ने ले लिया. जिसमें उसने अपना परिचय दरोगा विजय के रूप में बताई और बोला कि कानपुर के सचेंडी थाना क्षेत्र में एक रेप केस हुआ है. जिसमें यह लड़का भी शामिल है, लेकिन लगता है कि इसका इससे कोई मतलब नहीं है, तो हम लोग इसे बचाना चाहते हैं. ऐसे में दिनेश सिंह ने कहा कि आप उसे छोड़ दीजिए तो दरोगा बनकर बात करने वाले ने कहा कि इसके बदले फीस लगेगी.

पहले किये 60 हजार ट्रांसफर

दिनेश ने बताया कि फिर से उसके भतीजे मनोज की आवाज में फोन पर बात कराई गई, जिसमें भतीजा गुहार लगाने लगा की प्लीज फूफा मुझे कैसे भी करके बचा लो जो भी पैसे लगेंगे मैं आपको कुछ देर में ट्रांसफर कर दूंगा, क्योंकि मेरा मोबाइल पुलिस वालों ने ले लिया है. इसके बाद दिनेश ने बताया कि वह काफी डर गया. तुरंत ही फिर व्हाट्सएप कॉलिंग आ गई और पैसे ट्रांसफर करने की बात कही गई. जिस व्हाट्सएप नंबर 9366595528 से फोन आ रहा था इस नंबर से व्हाट्सएप पर अस्पताल में भर्ती एक लड़की की फोटो भेज दी गई ,कि यह लड़की मर चुकी है, जिसका रेप हुआ था और इसमें पांच लोग पकड़े गए हैं. जिनमें से चार लोगों को जेल भेजा जा रहा है. लेकिन आपके भतीजे को हटा लिया गया है. जल्दी बताइए पैसा कितनी देर में दे रहे हैं. दरोगा बनकर काल करने वाले ने पहले एक लाख की डिमांड की, दिनेश दो बार भतीजे की आवाज सुनकर डर गया और उसने अपने पास मौजूद 60000 रुपए पास में ही मौजूद अपने मित्र से कहकर एक बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए. इसके बाद उसने वॉइस रिकॉर्डिंग भेजी कि बाकी का पैसा जल्दी से दीजिए क्योंकि यहां पर मीडिया के लोग आ गए हैं. यह कहकर उसने 5 मिनट बाद फोन करने को कहा.

उधार लेकर दिए 40 हजार

दिनेश सिंह ने बताया कि जैसे तैसे उसने फिर से आसपास के लोगों से पैसे इकट्ठा कर 40000 रुपए फिर से एक दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए जो दरोगा बनाकर कॉल करने वाले ने बताया था. कुछ देर बाद फिर से व्हाट्सएप पर वॉइस रिकॉर्डिंग आ गई कि यहां पर मीडिया के लोग आ गए हैं और पूछताछ कर रहे हैं. ऐसे में अब यह भी मैनेज करना पड़ेगा और एक लाख रुपए और लगेंगे. इसके बाद जब दिनेश सिंह को आसपास के सब्जी विक्रेता और अन्य दुकान वालों ने परेशान देखा, तो उससे पूछा तब उसने आप बीती बताई। कुछ लोगों ने कहा कि लगता है तुम्हारे साथ फ्रॉड हो गया है. इस पर दिनेश सिंह ने तुरंत ही गुड़गांव में अपने साले को फोन किया तो पता चला कि उनका बेटा मनोज बिल्कुल सुरक्षित है. जब दोबारा उसे व्हाट्सएप नंबर पर कॉल किया गया तो एक दो बार तो कॉल उठाई गई, लेकिन उसके बाद कॉल उठाना बंद कर दिया गया. पीड़ित दिनेश सिंह ने बताया कि इसके बाद जब उसे पता चला कि उसे इस तरह से ठग लिया गया है तो सबसे पहले प्रार्थना पत्र साइबर सेल में जाकर करी और डीसीपी ने पूरे मामले में जांच किया आदेश दे दिए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *