अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

नौकरी का झांसा देकर लखनऊ के छात्रों को म्यांमार में बनाया बंधक, करा रहे साइबर फ्रॉड, इलेक्ट्रिक शॉक दिए जा रहे

बाराबंकी: नौकरी के लिए विदेश गए उत्तर प्रदेश के 3 इंजीनियर युवकों को बंधक लिया गया है। युवकों का आरोप है कि चीन की कंपनी स्कीमिंग कर 18 से 20 घंटे साइबर फ्रॉड से जुड़ा काम करवाया जा रहा है। काम करने से मना करने पर हमारे साथ मारपीट कर इलेक्ट्रिक शॉक दे कर प्रताड़ित किया जा रहा है। बाराबंकी निवासी युवक ने म्यांमार से वीडियो जारी कर प्रधानमंत्री मोदी और यूपी सीएम योगी से वहां की कैद से छुड़ाने की गुहार लगाई है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और बाराबंकी से 3 इंजीनियर दोस्त विदेश में नौकरी के नाम पर ह्यूमन ट्रैफिकिंग (मानव तस्करी) का शिकार हो गए। दरअसल बाराबंकी जिले के जैदपुर थाना क्षेत्र के अमरनाथ ने नौकरी के लिए विदेश गए बेटे को बंधक बनाने का आरोप लगाया है। पिता ने बताया कि बेटा अजय कुमार अपने दोस्तों के साथ नौकरी के लिए 26 मार्च 2024 को मलेशिया गया था, लेकिन वहां न पहुंच कर उसे म्यांमार पहुंचा दिया गया है। पिता अमरनाथ ने बताया कि बेटा अजय कुमार, सागर चौहान, राहुल उर्फ आरुष गौतम के साथ मलेशिया काम करने के लिए गया था। धोखे से उसे म्यांमार में बंधक बना लिया गया है। वहां पर मेरा बेटा बहुत परेशान है, हम परिवारजन भी काफी परेशान हैं। अजय के पिता अमरनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपने बेटे को सुरक्षित भारत लाने की मदद मांगी है।

इंजीनियर ने जारी किया वीडियो

लखनऊ के कुर्सी रोड बसहा निवासी इंजीनियर राहुल ने वीडियो जारी किया, जिसमें उसने बताया कि चीन की कंपनी स्कीमिंग करा रही है। बताया कि मैं 26 मार्च 2024 को दोस्त सागर के साथ जॉब के लिए मलेशिया निकला था। हम लोग लखनऊ से हैदराबाद और वहां से बैंकॉक के रास्ते यहां पहुंचे। थाइलैंड में एक होटल में रुके, उसके बाद फिर कैब लेकर म्यांमार पहुंचे।

एंबेसी से नहीं मिली रही मदद

वीडियो में अजय ने बताया कि हम लोगों को फंसाने में डीलर का हाथ है, उसने हम लोगों को किसी दूसरी कंपनी को बेच दिया है। यहां पर हम लोगों के साथ अजीब हरकतें हो रही हैं। पीड़ित युवकों का कहना है कि विदेश में इंडियन (भारत) और यांगून (म्यांमार) की एंबेसी से कोई मदद नहीं मिल रही है। बताया जा रहा है कि इंजीनियर के परिजनों से 8.14 लाख रुपये की फिरौती भी वसूली गई है।

बंधक बनाए गए युवकों का कहना है कि बंदूक की नोक पर हम लोगों से 18 से 20 घंटे साइबर फ्रॉड से जुड़ा काम करवाया जा रहा है। अगर हम लोग मना करते हैं, तो हमारे साथ मारपीट और इलेक्ट्रिक शॉक दे कर प्रताड़ित किया जाता है। अजय कुमार ने ये वीडियो शेयर कर भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगाई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *