अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

‘सीबीआई करे मुख्तार अंसारी की मौत की जांच,’ यूपी के पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह का बयान

जालौन: जेल में बंद मुख्तार अंसारी की मौत के मामले में तमाम प्रतिक्रिया सामने आ रही हैं। परिवार के लोगों से लेकर राजनीतिक पार्टियां भी सवाल उठा रही है। ऐसे में प्रदेश के पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह ने मुख्तार अंसारी की मौत को लेकर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि मुख्तार को लेकर लोगों के मन में सवाल उठ रहे हैं, आखिर अचानक कैसे उसकी मौत हो गई। मुख्तार अंसारी ने खुद स्लो पॉयजन दिए जाने का आरोप भी लगाया था। ऐसे में प्रदेश सरकार (योगी सरकार) इस मामले की तत्काल सीबीआई जांच कराए, जिससे सच्चाई सामने आ सके।

दरअसल, पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह जालौन के कोंच नगर में एक निजी कार्य में शामिल होने आए थे। पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह ने कहा कि उसकी (मुख्तार अंसारी) मौत कैसे हुई है, इसका अंदाजा लगाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि वह राज्य की अभिरक्षा में था और उसने न्यायालय में आरोप भी लगाया था कि उसे धीमा जहर दिया जा रहा है। साथ ही हत्या होने की आशंका भी जताई थी, इसीलिए सरकार को अपना स्टैंड क्लियर करना जरूरी है। ताकि किसी प्रकार का संदेह न रह जाए। इस मामले की सीबीआई जांच करना बहुत जरूर है और जल्द से जल्द इसकी जांच कराई जाए।

पुलिस वाले भी करते हैं फर्जी मुठभेड़

मीडिया के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि होने के लिए कुछ भी हो सकता है। पुलिस वाले फर्जी मुठभेड़ कर सकते हैं। इस वक्त 250 पुलिसकर्मी जेल में हैं जो सजायता और कुछ पर अंडर ट्रायल चल रहा है। जब पुलिस वाला हत्या कर सकता है तो क्या नहीं हो सकता है। हालांकि इससे हर पुलिसकर्मी को जोड़ना सही नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *