अपराध

एक करोड़ घरों के लिए ₹75,000 करोड़ की छत सौर योजना को मंजूरी

केंद्र ने गुरुवार को एक करोड़ घरों के लिए ₹75,000 करोड़ की छत सौर योजना को मंजूरी दे दी। आज पीएम मोदी की अगुवाई में कैबिनेट की बैठक हुई। इस बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, ‘पीएम सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना’ को आज मंजूरी दे दी गई है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह योजना न केवल परिवारों की मदद करेगी और सौर ऊर्जा घटकों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देगी, बल्कि 17 लाख लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार भी प्रदान करेगी।
इतने करोड़ परिवारों को मिलेगी बिजली मिलेगी
इस योजना के तहत एक करोड़ परिवारों को 300 यूनिट मुफ्त बिजली मिलेगी। प्रत्येक परिवार को 1 किलोवाट प्रणाली के लिए ₹30,000 और 2 किलोवाट प्रणाली के लिए ₹60,000 की सब्सिडी मिल सकती है। सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट के अनुसार, 3Kw के प्लांट के लिए प्रोजेक्ट कॉस्ट करीब 1.26 लाख रुपए होती है, इसमें से सरकार 54 हजार की सब्सिडी देती है। इस योजना के तहत, आवासीय छत पर सौर स्थापना के लिए केंद्रीय वित्तीय सहायता (CFA) प्रदान की जाएगी।
तीन सेमीकंडक्टर इकाइयां स्थापित करने के प्रस्तावों को भी मंजूरी
केंद्र सरकार के मंत्रिमंडल ने गुजरात और असम में 1.26 लाख करोड़ रुपये के अनुमानित निवेश के साथ तीन सेमीकंडक्टर इकाइयां स्थापित करने के प्रस्तावों को भी गुरुवार को मंजूरी दे दी। केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा प्रस्तावों को मंजूरी देने के बाद दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि सभी तीन इकाइयों का निर्माण अगले 100 दिनों के भीतर शुरू हो जाएगा।
टाटा इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड पावरचिप सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कॉर्प (PSMC), ताइवान के साथ साझेदारी में एक सेमीकंडक्टर फैब स्थापित करेगा। इस यूनिट का निर्माण गुजरात के धोलेरा में किया जाएगा। इस संयंत्र में 91,000 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। टाटा सेमीकंडक्टर असेंबली एंड टेस्ट प्राइवेट लिमिटेड 27,000 करोड़ रुपये के निवेश पर असम के मोरीगांव में एक सेमीकंडक्टर इकाई स्थापित करेगी।
वैष्णव ने यह भी बताया कि सीजी पावर जापान के रेनेसास इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन और थाईलैंड के स्टार्स माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक्स के साथ साझेदारी में गुजरात के साणंद में सेमीकंडक्टर इकाई स्थापित करेगी। साणंद इकाई में 7,600 करोड़ रुपये के निवेश का अनुमान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *